Comments

Comments

Monday, 28 March 2016

My Personal Trainer Took Advantage Of Me, And I Loved Every Second Of It

My Personal Trainer Took Advantage Of Me, And I Loved Every Second Of It
Shutterstock
From the beginning I should say that I don’t usually go for muscle-y guys, or even “hot” guys. I crave a particular kind of dirty hot that escapes most sought after modern men. They’re too pretty.
now and then I catch a glimpse 
of a perfectly chiseled torso and I get it. It feels very animalistic to admire a great torso and anything that makes you feel primal also makes you feel sexy. It’s a feeling like yes, this is the human form in it’s most perfect condition and I would not at all mind being underneath it.
This is all to say when I met my physical trainer I was not intimidated by his striking appearance or his Zac Effron abs. Of course he was going to be hot, it was his full-time job to look ridiculous, like being an underwear model but with more busy work. I greeted him with, “I think you should know that I hate working out.” I thought he’d laugh or at least smile, but he just locked eyes with me and said, very seriously, “That’s not good.”
My heart sank. I had signed up for a personal trainer because I didhate working out. I didn’t even know how to use a gym. I’d played soccer in school and I loved playing a game, but I hated the workouts involved. Now that I was out of school and writing full-time, I spent way too much time on my ass to not learn how. I foolishly hoped he would take it easy on me.
“You’re going to start by emailing me every night to tell me everything you ate that day.” “Oh,” I replied, “I don’t think I have an issue with my diet, I’m just looking to learn how to stay in shape.”
“No. I need to review what you are putting into your body. It affects what I will have you do in our sessions.” He was so serious.
And so I began ending every night with an email to my stoic trainer, John. I tried to be conversational, explaining anything that looked too unhealthy:
Hi John,
Here’s my food for the day:
Breakfast:
1 egg white/1 egg
slice of cheddar cheese
sriracha
Lunch:
1 slices wheat bread
turkey/lettuce/mayo
1 bag pop chips
1 chocolate donut (a coworker brought them in for her birthday)
Snack:
string cheese
Dinner:
Cheeseburger and 1/4 serving of fries (it was a first date, I couldn’t order a salad!)
No response. He never responded. He only looked at me disapprovingly when it came time for our weekly session. “Adrienne, you’re going to stick to your meal plan this week. Or else I’m going to be forced to punish you next session.”
“Isn’t working out punishment enough?”
“You haven’t seen anything yet.” He smirked. It was the first time I’d seen anything resembling a smile. He looked good.
It was then that I realized how attracted to him was. I’d thought about him all week, how I needed to impress him by sticking to my meal plan or by including a funny comment at the end of my email — and how he didn’t crack until he talked about punishing me.What did he even mean?
That second training session was harder than the first. Instead of just showing me a bunch of machines and how to use them, we did a circuit, and he watched me complete each rep. I was laying on a bench lifting small dumbbells over my head when I noticed how low he wore his pants. His hands were outstretched spotting me, causing his t-shirt to lift up a bit and exposing a few inches of hisvery lower abdomen. I think my jaw dropped a bit as I did a double take over his exposed body and up to his smirking face.
Shit. He caught me staring.
He was almost laughing now as he told me to get up. It was time for the treadmill. I followed him groaning internally. “I’m going to push the buttons for you, you’re not to touch them. Got it?” What did he mean? “What if I need to run slower?” I asked him. “Adrienne, I know what I’m doing. You’re going to need to trust me.”
He started me off at 4.0. I could almost walk. “This is a good pace,” I laughed. “Nah, you’re just warming up.” He’s an expert, I thought,just trust him this one time and see what happens. And so I did, and it was really an incredible workout. I ran faster and harder than I ever would have on my own and it sucked — but I stuck with it. “I think I can see a little bit about why people do this for fun,” I told him.
“I told you you’d like it,” He said grinning playfully. “Now go hit the showers and I’ll see you here next week.” With that he slapped my ass, turned, and walked back towards the trainer’s desk. What?
What was he thinking? You can’t just slap a woman’s ass? That’s like, sexual harassment or something. Plus, I was paying him money. The whole thing was weird. I should have been upset, but I wasn’t. In fact, if I was honest with myself, I was giddy.
I showered at the gym and replayed the moment a hundred times. Had he tried to pat me on the back and grossly misjudged the distance? Was it a force of habit from his football days? By the time I’d dried myself off and dressed again I’d convinced myself that it was a mistake. A meaningless mistake.
But I caught his eye as I walked from the locker room to the front entrance. And I could have swore he winked.
The next week I was vigilant with my meal plan. I wanted to impress John. I wanted him to be proud of me.
Hi John,
This is what I ate today:
Breakfast:
2 egg whites, 1 egg
onion and red pepper
1/3 cup skim milk
Lunch:
1 whole wheat wrap
1 chicken breast
1 cup mixed peppers
fajita seasoning
Snack:
1/4 cup almonds
Dinner:
1 chicken breast
2 cups broccoli
4 tbsp soy sauce
1 cup strawberries
Hope your week is going well :)
I used a god damn smiley face and he still didn’t respond. But I knew he’d have an opinion on my improvement, I just needed to wait until our session.
To my surprise, when I emailed him my final food log before our meeting, he responded:
Adrienne,
The gym is undergoing routine maintenance this afternoon. I moved our session to 10pm.
John
Of course this seemed suspicious. Of course it did. At least, Iwanted it to be suspicious. I wanted it to be a farce, for this to be some made up reason for him to get me alone while the gym was deserted. But I couldn’t be sure. John was so stoic. And he was perfect looking. Why would he be interested in me?
But I spent extra time getting ready that night anyways. I wore new capri workout leggings that hugged my curves and I showered beforehand, so that my hair was clean and bouncy in my long pony. As I drove to the gym I decided I was nervous. Even if his excuse is real, I have a little crush on him. I want this to go well.
I met him in the secluded, smaller area where we always worked. It was equipped with cardio machines and tons of free weights and weight machines, but it was a bit smaller and quieter than the main gym, for people to work with their clients. Right now, it was completely deserted.
“Hi Adrienne.”
John was waiting for me, leaning against a treadmill. He had some five-o-clock shadow around his jaw.
“Hi,” I said meekly, probably letting on how nervous I was.
“I told you if your eating habits didn’t improve this week I was going to have to punish you.” I looked up and John was suddenly in front of me, looming over my small figure.
“But — I did improve! I did really well this week.”
“I know you did, and I knew you would. I just think a little punishment is what you need to be completely on the right track.”
It was insane, the things that happened inside me when he said punishment. It tugged at a place deep inside and I found myself too willing to feel it again to care that this conversation was reckless.
“Okay.”
With that he was on me. He had closed the distance between us and my back was on the trainer’s desk and his hips were pressing against me as his mouth found mine. He was a sexy kisser. Way more passionate than I’d expect, but controlled. Rhythmic.
Even so, I couldn’t cast my surprise and doubts aside.
I moved away from him. “I don’t think we should…” I said the words though I didn’t really believe them. This was weird, we were in public. But I always wanted it. Like, really wanted it.
“Adrienne,” He said sternly, closing the distance between us, “I think we’ve established by now that I know what’s best for you.” He caressed my face with one hand before moving it gently behind my head where it closed, suddenly, on a handful of hair at the back of my head causing me to tilt my head back, exposing my neck. With his other hand on the small of my back he pulled my hips towards his, I could feel his erection as he began nibbling at my neck.
I stepped back again, but this time to hop up on the desk and spread my legs so he could move between them, pressing his crotch aggressively against mine as we kissed. I gave in completely to what was about to happen. The thin lining of his gym shorts and my leggings wasn’t keeping anything a secret.
He started pressing his hips into mine rhythmically, I think he couldn’t help himself. But realizing that I was going to throw caution completely to the wind and embrace this for whatever it was, I wanted to blow him first, to slow everything down. I slid off the desk and onto my knees in front of him. I looked up — he was smirking again.
His low-hanging gym shorts were no obstacle at all and I simply pulled them down to reveal his erection. I was flattered that he was so hard for me. “Adrienne,” He called from up there, “this is what you do to me.” He put one hand on his cock and guided it into my mouth and his other hand on the back of my head, guiding my receipt of it.
I was acutely aware that we were still in a semi-public setting and that this was a rushed and probably ill-advised encounter. But it seemed innocent, not dirty. We liked each other. We are humans. Why not give in to what our bodies are telling us?
He was still guiding my blow job, feeding me his cock and then timing his hip thrusts with when he would push on my head and I would bob up and down. Just like how he’d been timing the speed and duration of my runs. I trusted him now. It had been the perfect practice.
I could tell he was really into it be watching his face and feeling how tense he was down there. After a few minutes he guided me up and I removed my pants completely and laid back on the trainer’s desk. He laughed for the first time since I’d met him as he grabbed my thighs and pulled my body into his, entering me.
He thrusted hard as he held my thighs, ensuring I wouldn’t bounce too far away. He was the same way he was when he was watching me lift, stoic, measured, controlling. He lifted one hand to caress my face and slipped his thumb into my mouth. I welcomed it into my mouth and swirled my tongue around it while I sucked on it. I wanted to show him that I trusted him.
I think that turned him on even more because his speed increased and I delighted in turning him on and gave into the rhythm of his body on mine. He was going to make me cum. This whole time I’d been so good about not making noise but as I felt that tension roll up from my crotch through my bell and my eyes roll back into my head I began moaning. He quickly covered my mouth with his hand and lifted me off the desk, holding me in his arms and continuing to thrust into me while I came all over him.
He laid me down again and came quickly after that. As we got dressed again he dismissed me for the night and I returned home to my first ever personal email from John:
Adrienne,
You’ve shown a lot of improvement this week. Looking forward to next.
John. 

I Seduced My High School English Teacher, It Was Totally Worth It

I Seduced My High School English Teacher, It Was Totally Worth It
Shutterstock
“Blood, sex, and death.” Those were the three things Mr. Fitzpatrick taught us were part of every gothic horror novel. He was the high school english teacher I hopelessly crushed on, and I couldn’t help but notice that his eyes lingered on me when he said the second word. Sex.


I was a senior then, about to graduate. Glued to my seat even in the late, late spring when my classmates were terminally zoned out, focused on graduation, the summer ahead of them, college. But I still had unfinished business here, and today he was wearing a black tie over a light blue button-up and jeans that were just snug enough to drive my imagination wild. When he perched on the edge of his desk reading from The Strange Case of Dr Jekyll and Mr Hyde, I let my eyes wander up and down his body, imaging a new use for each part.

He was the new cute teacher this year, the one the girls whispered about between classes. Mr. Fitzpatrick is looking good today. I’d tried to pretend I wasn’t one of them before, it’s not interesting to have the same crush as everyone else. But his charm was undeniable, who else could make the classics so sexy? Every day when he taught his inflection would bounce up and down with passion as he taught us about Bram Stoker and Shirley Jackson.

When he taught Dracula he became brooding and obsessive, delving into each character. Even in the clinical, fluorescent-lit classroom it was sexual. I spend the 50 minute class period imagining his lips — his teeth — on my neck, finding me in secret, lusting after my “life force” as Stoker says. The week he spent on, The Haunting of Hill House, was one of the most oddly erotic of my life. The text was thrilling, I was in a constant state of suspense and I held myself to not reading ahead, and being completely present in class when he talked about the role adrenaline plays in our bodies physiological state as we read. I didn’t ask, but I was sure my increased interest in him was one of those byproducts he was talking about.

When graduation was only a few weeks away, I felt bolder. Surely I should make a move, if the consequences of being rebuffed were so low? What could they do? I was almost gone. And so I became consumed with the idea of hooking up with Mr. Fitzpatrick.

At first, I thought I could be subtle. Mr. Fitzpatrick certainly noticed when I wore something low-cut or a little more form-fitting. Once I entered his classroom in a dress that particularly accentuated my curves and I could have sworn I heard him groan. But understandably, he never did anything more than cast a lingering glance my way.

He’d get in too much trouble, I reasoned. I’m going to have to be the one to do something. So I put my mind into creating the perfect plan: I’d just have to present him with an opportunity he couldn’t say no to.

The senior end-of-year dance was coming up, and I inserted myself into the planning committee long enough to serve as an official liaison and ask Mr. Fitzpatrick if he would be a chaperone, apparently we were in desperate need of one (I didn’t ask anyone else). A light flickered in his eyes as I carefully enunciated the word desperate. Hopefully that was a look of comprehending my agenda. He agreed to the task.

I bought new lingerie, black and red and lacy. I wore it under a loose-fitting white sundress, pure and virginal like a gothic heroine, but dark and carnal underneath.

At the dance, I added a note to the clipboard waiting for him as a chaperone. It was the regular list of rules to enforce and emergency contacts. My note was underneath, it was a line from Dracula along with his room number:

“No man knows till he experiences it, what it is like to feel his own life-blood drawn away into the woman he loves.” CLC 345.
I never went to the dance. Instead I made my way through the dark and empty corridors of the school until I let myself into his classroom. I brought with me one candle to break up the darkness without relying on the fluorescents. Lighting it and setting it on a desk in the front row I climbed into Mr. Fitzpatrick’s seat behind his desk, pulled the straps of my dress down so the top of my lacy bra was revealed, and crossed my legs with my heels resting on the edge of his desk, waiting.

It was a long wait. He didn’t find my note right away, but it became pleasurably agonizing, every tiny sound I heard in the hallway seemed like it could be him approaching. I got excited and then mellowed again when I realized it was my imagination. When he did come, I didn’t even hear him approach.

“Adrienne.”

It was a guess he made as he entered the classroom, it was too dim to see my face but I had made sure the glow illuminated my nearly bare legs. I was glad he was expecting it to be me.

“Mr. Fitzpatrick.” I acknowledged him and removed my legs from his desk, slowly crossing them in front of me.

“This note… what are you doing here? We shouldn’t be here.”

He was saying the words, but even to someone who wasn’t engaging in wishful thinking they sounded unconvincing. He didn’t want them to be true. I stood up and leaned against the edge of his desk, facing him, opening my legs a bit so he could imagine himself between them.

“Mr. Fitzpatrick, I’m sorry if you’re misunderstanding. I just wanted to discuss Dracula more.”

He moved closer, grinning.

When he was close enough that I could touch him, I grabbed his tie and pulled his body into mine. I could feel he was already hard as he pressed against the loose fabric separating us. The situation excited him as much as it excited me. “You’ve always been my favorite student, Adrienne, but I could get in a lot of trouble for being here right now.”

Pulling harder on his tie, my mouth found his neck. “I’ll just have to make it worth your while then.”

He groaned and his hands found the undersides of my thighs, pulling me closer to him and moving us both back so I was resting on his desk. I slide back farther and wrapped my legs around him.

“I just wanted to experience this before graduation,” I told him, “I’ve been trying not to make a move all year.”

Even in the low light, I could see the smile that spread across his face. He says he loves the way I look lying on his desk. I respond by feeling the bulge in his pants, attempting to grip him through the fabric and feeling him grow.

“We need to make this quick. They’ll look for me if I don’t come back.”

“Perfect.” With the suspense building as long as it had, I wouldn’t last long in his arms anyway.

I heard him unbuckle his belt and unzip his pants but I didn’t look away from his face. Even in the dark he looked handsome, brooding. I wanted him to tell me more about sex and blood and death but I also just wanted to experience it with him — all the parts of being human, all the things worth writing about.

I was happy there, to be a willing participant in a fantasy I was sure he had. Happy when he slid the lace panties I’d brought for the occasion off, happy when he didn’t bother to remove my bra but instead pulled my breasts free from it, and especially happy when his body met mine.

While forging a path with his mouth from my neck, down to my collarbone, and then landing on my breasts he pulled me closer to him and entered me. The speed with which he poured himself into me belied his eagerness. I knew he wanted me as much as I wanted him to. As much as I’d fantasized about him wanting me.

Lowering himself so his face was next to mine he whispered, “Adrienne, if you want to be a great student you’re going to have to finish me off with your mouth.”

Kneeling before him I skipped the niceties and began blowing him full on right away, working my hand around his shaft in tandem with my mouth. His hands worked their way through my hair, separating it into two ponytails he held firmly as he used them to guide my head onto his cock, increasing in rhythm until I felt him tense up, his hands clenching my hair. Pulling my head down on him, he held me there and emptied himself into the back of my mouth. I could taste the saltiness as I removed myself from him, licking my lips.

It was the perfect end to my senior year

नर्स को हॉस्पिटल में चोदा Hospital me nurse ki chudayi ki kahani

नर्स को हॉस्पिटल में चोदा Hospital me nurse ki chudayi ki kahani
हेल्लो दोस्तों मेरा नाम राहुल है। मे दिल्ली मे रहता हु. मैं अब अपनी कहानी सुनाता हूँ. दो महिने पहले मेरी माँ का एक्सीडेंट हो गया था. उसे मैने एक प्राइवेट हॉस्पिटल में भर्ती कराया उस वक़्त माँ कोमा मैं थी माँ को काफ़ी चोटे आई थी। इसलिय उनका ऑपरेशन किया गया. फिर उनको icu मैं शिफ्ट कर दिया गया।
जिस हॉस्पिटल में मैं था वहाँ बहुत सारी नर्स भी काम करती हैं. उनमे से सीनियर नर्स शादीशुदा हैं और ज़्यादातर उनके पति बाहर देश में जॉब करते हैं जिस कारण वो बाहर रहते हे।
वैसे तो मैं शरीफ स्वभाव का हूँ पर क्या करूँ जवानी का गर्म खून और उसके उपर icu में घंटों तक सुंदरियों के बीच घिरे रहना. लंड कितने बार खड़ा हो ही जाता है. वैसे मेरे शक्ल से किसी को अंदाज़ा भी नहीं लगता होगा की मेरा लंड खड़ा हो गया है। वैसे मेरे लंड का स्वभाव भी बड़ा  विचित्र है. मेरा लंड हमेशा से 3 चीज़ों से खड़ा होता है: पहला तो चुचियो का बड़ा होनादूसरा सेक्सी सेंन्ट की गंध और तीसरा मोटी गांड . यह तीन चीज़ दोस्तों यदि किसी एक सुंदरी में हो तो फिर क्या कहना. फिर तो मेरा दिमाग़ बंद और लंड खड़ा हो जाता है।
तो दोस्तों, उस हॉस्पिटल में नर्स वाइट स्कर्ट पहनती हैं. जब भी मरीज का ब्लड टेस्ट लेना हो या मेडिसिन देनी हो तो 4-5नर्स आगे मरीज की तरफ झुक कर काम करती हैं और मैं उनके पीछे खड़ा होकर उन्हे देखता हूँ। उस वक़्त सभी नर्स की पीठ मेरी तरफ होती हैं और झुकने से उनके पेंटी के शेप टाइट स्कर्ट से दिखते हैं. अक्सर मेरा लंड इस नज़ारे से 3-4 इंच की दूरी पर रहता है।
दोस्तोंअक्सर ऐसे मौके पर मै मन ही मन उनकी मोटी गांड को सहलाता हूँ और स्कर्ट को उपर उठाकर पेंटी खोलकर दोनो चूतडों को सहला कर लंड उनकी चूत में डाल देता हूँ. पूरा जिस्म यारों गर्म हो जाता है। जी में आता है की जमाने का डर नहीं होता तो कमर को पकड कर पीछे से खड़े खड़े जम कर चुदाई कर देता सबकी बारी बारी से. लेकिन यारोंसारा मामला ख्वाबों तक ही था।
लेकिन सब कुछ बदल गया जब रानी नाम की नर्स icu में आई. उसकी आँखें बिल्कुल नटखटी और शराबी थी. उसका परर्फ्यूम बिल्कुल मदहोश कर देता था. लंबे बाल थे। चूचिया बिल्कुल मोटी थी ओर दोनो चुतड फूली हुई थी और टाइट स्कर्ट से शेप एकदम सेक्सी दिखता था।  उसकी आदत थी की कभी सीधी नहीं खड़ी होती थी. हमेशा टेबल पर झुक कर और गांड को टेबल से डोर और पैर को सीधा करके खड़ी होती थी। यह लगभग डॉगी पोज़िशन होता था।  हाल ये हो गया था की मेरा लंड सिर्फ़ उसके परर्फ्यूम और पसीने के गंध से खड़ा हो जाता था. और जब भी मेरा लंड खड़ा होता तो मैं बाथरूम मै जाकर गहरी गहरी साँस लेता था।

एक दिन दोस्तोंमैने माँ को दवा देने के लिए नर्स को बुलाया तो रानी आ गयी. मैं दीवार से सटकर खड़ा था और दवा देने के लिए जब वो आई तो मेरे सामने खड़ी होकर झुकी। फिर वही लंड से 3 इंच आगे उसकी स्कर्ट में कसमसाती हुई गांड. लंड खड़ा हो गया और मैं गहरी साँस लेने लगा। फिर वो जान बुझ कर तोडा पीछे खिसकी और उसकी गांड बिल्कुल मेरे खड़े लंड को दबाने लगी। पूरे जिस्म में बिजली दोड गयी. पर मैने अपने पर काबू रखा।
मेरा पूरा लंड धडक रहा था और उसे भी मेरे लंड की धडकन अपनी गांड पर फील हुई होगी करीब 3 मिनिट तक ऐसे रहने के बाद वो वहाँ से हट गयी और बिल्कुल एक शरारती मुस्कान फेक के चली गयी। मैं फिर बाथरूम गया. गहरी साँस ले रहा था. जैसे तैसे अपने को कंट्रोल किया था। रात के 11.00 बजे थे. सारी नर्स अपने अपने मरीज के रूम में थी. मैं अकेला बीच के हॉल में डॉक्टर चेयर पर बैठा था। तभी रानी आकर सामने के टेबल पर झुक कर खड़ी हो गयी और मेरी आँखों में गुरने लगी।

मै भी अब बेशर्म होता जा रहा था. उसकी गंध से ऐसा लगता था जैसे हम दोनो जानवर हैं वो भी गरमाये हुए. मै भी उसकी आँखों में घूरने लगा और उसकी गंध का मज़ा लेने लगा। फिर उसने आँखें नीचे कर ली. मैने हिम्मत करी और अपने अंगुली से उसके होठों को सहलाने लगा।  उसने झटके से मूँह खोल कर मेरी अंगुली को अंदर ले लिया और चूसने लगी. फिर मै दोनो हाथों से उसके कंधोंऔर गले को और उसके चेहरे को सहलाया। रानी फिर सामने से हट कर मेरे बगल में आकर खड़ी हो गयी वैसे ही झुक कर. अब हम दोनों टेबल के पीछे थे। वो मेरे सामने खुली किताब को पढ़ने का दिखावा करने लगी। और मैं अपने दाएँ हाथ को उसके पीठ को सहलाने के बाद उसके गांड पर सहलाने लगा।
उसके बाद उसकी जांघ सहलाई और स्कर्ट के अंदर से हाथ उपर ले गया. और उसकी पेंटी के उपर से उसके चूतडो को दबाने लगा. दोनो गहरी गहरी साँस फेक रहे थे तभी अचानक एक मरीज को पेशाब की ट्यूब डालने की ज़रूरत आ गयी। मैने झट अपना हाथ पेंटी  के अंदर से निकाला और वो तुरंत दूर हट गयी।

दोस्तोंउस रात ऐसा लग रहा था की मेरा लंड दर्द से फॅट जाएगा. रानी ने मुझे हेल्प करने हो कहा मैने ओके कहा ओर उसके साथ उसकी हेल्प करने चल दिया उसने मुझे मरीज के लंड को पकडने को कहा मैने उसका लंड पकड लिया फिर उसने सॉफ किया वो शरमा रही थी।
दोस्तोंकाम की जगह में एक नर्स का प्राइवेट कमरा होता है जिसमे फोन होता है और अंदर से लॉक करने की फेसिलिटी होती है और मै यह बता दूँ की अक्सर रात में नर्स के पतियों के फोन आते हैं और नर्स उस प्राइवेट रूम को बंद करके काफ़ी गरमा गर्म बातें करती हैं। तो मै माँ को स्पंज करने के बाद नर्स के प्राइवेट रूम में आराम से हाथ धोने लगा. तभी रानी के पति का फोन आ गया और वो बिना मुझे देखे अंदर आकर दरवाजा बंद करके फोन उठा कर बात करने लगी। आदत के मुताबिक़ वो डॉगी स्टाइल में थी. टेबल पर झुकी हुईकमर 90 डिग्री पर मुड़ी हुईपैर एक दम सीधे टेबल से डोर और कुर्सी खाली। 
दोस्तों मैं बता दू की नर्स कम से कम एक घंटे ज़रूर बात करती हैं अपने पति से और तब तक बाकी नर्स उनको डिस्टर्ब नहीं करती. अब मैं रानी के साथ बंद था उस कमरे में और रानी फोन पर किस कर रही थी और मलयाली में फटे आवाज़ में कुछ बात कर रही थी। मैने खाली कुर्सी उठाई और उसकी गांड के पीछे रख कर उस पर बैठ गया। अब मैं उसकी कमर को पकड कर उसके गांड पर स्कर्ट के उपर से किस किया। उसने सर्प्राइज़ से मेरी तरफ देखा और उसकी आवाज निकली. उसके पति ने कुछ नहीं समझा होगा क्युकि वो लोग फोन सेक्स कर रहे थे।

उसने अपनी टाँगें सीधी कर ली और उसकी गांड मेरे चेहरे के सामने आ गयी. मैने अपनी नाक उसके गांड पर सटा कर गंध ली और साथ साथ उसकी दोनो मोटी जांगो को सहलाने लगा। उसे हल्की गुदगुदी होने लगी और वो खिलखिला कर कसमसने लगी। मै उसकी स्कर्ट को उपर कमर पर करके कमर को कस कर पकड लिया और पेंटी पर किस करने लगा और उसके दोनो चूतडों  को दाँतों से हल्के हल्के काटने लगा. वो कसमसाते हुए मेरी तरफ देखी और बोली तुम बहुत नॉटी हो. दोस्तों ऐसी बेशर्म पत्नी मैने और नही देखी जो मज़े से पति को उल्लू बना रही थी।
मैने फिर पास मे रखे कैंची से उसकी पेंटी को कमर के पास से काटा और फिर चूत के पास. पेंटी से जबरदस्त गंध आ रही थी उसके पसीने और परर्फ्यूम की। अब उसकी फूली हुई गांड  मेरे सामने मक्खन की तरह मुलायम दिख रही थी. दोनो चूतडों को हाथ से हटाने के बाद उसके गांड की घाटी गांड का छेद और चूत का छेद सॉफ दिख रहा था। वो भी मस्त होकर सिसकारी भर भरकर मलयाली में कुछ बात किये चली जा रही थी।

मैने भी उसके दोनो चूतडों के बीच में अपनी नाक घुसा दी. अब मेरा पूरा चेहरा उसकी झांटो  के बीच था. मेरी नाक उसकी गांड के छेद पर और मुँह उसकी चूत पर था और मैने दोनो हाथों से उसकी दोनो जाँघो को कस कर पकड रखा था। अब मैं बेतहासा उसके चूत और गांड को चाटने लगा और बीच में उसके चूतडों को दबाता भी रहता था। अब मैं इंसान नहीं एक कुत्ता बन चुका था जो एक गरमाई हुई कुत्तिया की चूत को चाट रहा था और तभी रानी ने फोन पर कहा अब रखती हु. फिर क्या था मैने कुर्सी को पीछे धकेला. उसके पीछे उठ कर खड़ा हुआ और पेन्ट की चैन खोलीलंड को बाहर किया।
उसकी कमर को कस कर पकड लिया और लंड को उसके गीले चूत पर डाल दिया. वो ऊहह आआआआऐययईईईईईईईई करने लगी वो शादीशुदा थी इसलिए मुझे अपने 9इंच लंबे ओर 5 इंच गोलाई वाले लंड को उसकी चूत मैं डालने मैं ज़्यादा मेहनत नही करनी पड़ी फिर मैने हौले हौले उसके दोनो चूतडों को खूब अच्छे से थपथपाया। धीरे धीरे उसकी चूत ढीली हो गयी और लंड आराम से फिसलता हुआ उसकी चूत मे चला गया। वाह क्या गर्म गीला और रेशमी अहसास हो रहा था मेरे लंड को. वाकई मेरा लंड कुंदन हो रहा था।

मैने पूरी ताक़त से आपना 9 इंच लंबा ओर 5 इंच गोलाई वाला लंड को रानी की चूत की गहराइयों में उतार दिया और उसकी चूत को दबाए हुए अपने कमर को उपर नीचे दाएँ बाएँ गोल गोल हिला हिला कर नाचने लगा. हम दोनो बिल्कुल कामदेव के गुलाम हो गये. उसकी टाँगें ढीली पड़ने लगी तो मैने कमर के नीचे से हाथ लगा कर उसे सहारा दिया और कमर को हिला हिला कर उसकी चुदाई करने लगा। उसके चूत की गर्मी मेरे लंड से होते हुए सारे शरीर में फैल रही थी और हम दोनो की आँखें बंद थी और रानी सिर्फ़ ऊओआ..आहह ही कर पा रही थी. मैं उसके बोब्स की मसाज भी करी और उसकी चूत मेरे लंड पर बिल्कुल टाइट हो कर छिपकने लगी।
और फिर उसकी चूत ने पानी छोड़ दिया. लंड भी अब गंगा स्नान कर पवित्र हो चुका था. अब बारी थी चूत के गंगा स्नान की। मैने उसके कमर को पकड कर फिक्स किया और लंड से स्ट्रोक मारने लगा. उसकी आँखें बंद थी और चूत ढीली और बेहद चिकनी। लंड से धार धार स्ट्रोक लग रहे थे और तब 10 मिनिट बाद लंड ने भी पानी छोड़ दिया ओर उसने भी। हम दोनो तृप्त हो चुके थे. मैने उसके चूत से गिरते हुए पानी को पास मे रखे एक बॉटल में रख लिया।

40 मिनिट बीत चुके थे. रानी की मलयाली चूत मेरे लंड की फ्रेंड बन चुकी थी. मैं वहीं चेयर पर  बैठ गया. रानी मेरी तरफ फेस करके मेरी जाँघ पर बैठ गयी। मैने अपने सिकुडे हुए लंड को सावधानी से उसकी चूत में डाल दिया और मैं पीछे की तरफ झुक कर बैठ गया। वो मेरे लंड को अपने चूत मे लिए हुए थीउसकी वन पीस स्कर्ट कमर के उपर थी,  उसकी छाती मेरी छाती से सटी हुई थी और उसका चेहरा मेरे चेहरे के सामने था और अब वो धीरे धीरे फिर से फोन से बात कर रही थी. मैने उसको गले लगाया. और अपनी बाहों में कस लिया।
फिर उसके दोनो चूतडों के उपर हाथ फेरने लगा और फिर स्कर्ट के अंदर से हाथ को उसकी नंगी पीठ पर रख कर सहलाने लगा। फिर उसकी ब्रा की हुक खोल दी. उसके पूरे कपडे को उतार कर अलग कर दिया और अपने कपडे भी निकाल लिय। फिर से उसे गले लगाया उसकी गले को, कंधे को, पीठ को दोनो चूतडों को दोनो जांगो को, खूब सहलाया. साथ ही साथ उसके दोनो कान को जीभ से चाट चाट कर चूसा. उसके गाल को चूमा।

वो बिल्कुल एक छोटे बच्चे की तरह मेरे सीने से चिपकी हुई थी. फिर मैने उसे अपने सीने से अलग किया और उसके दोनो छोटे छोटे निपल्स को चूमा और खूब चूसा और साथ में उसकी दोनो बाँहों को सहलाता रहा। तब तक उसके फोन की बात चित ख़त्म हो चुकी थी और वो मेरे चेहरे को हाथों मे लेकर मेरे होठों को अपने होठों से किस करने लगी। उसने अपनी जीभ मेरे मूँह मे डाल दी और फिर मुझसे चिपक गयी और अपनी जांगो को मेरे कमर को कस लिया. मैं उसके जीभ को चूसने लगा और साथ में उसके नंगी पीठ को सहला कर उसकी गांड को सहलाने लगा. मैने अपने हाथों में बॉतल से उसकी चूत का पानी निकाल कर उसकी गांड पर मलने लगा।
क्या कहूँ दोस्तोंमैं किस कदर मस्त हो रहा था उपर से मैं फ्रेंच किस कर रहा था,छाती पर  उसकी चूचियों की गर्मी और नरमी कहर ढा रही थी और नीचे उसके चूत की पानी से उसकी गांड की मालिश हो रही थी।

मैने अपनी अंगुली उसके गांड की छेद पर रख कर हल्के से दबाया तो वो टाइट थी. मैने वही अंगुली को रखे रखे हल्के दवाब से मसाज की तो कुछ देर बाद गांड की छेद ढीली होने लगी।  मैने झट से वहीं रखी हुई जेली की ट्यूब उसकी गांड से लगा कर जेली अंदर डाल दी. और फिर उसकी गांड को थपथपाने लगा। फिर वहीं रखे टिश्यू पेपर को अंगुली पर लपेट कर उसकी गांड  के अंदर डाल दी और अच्छे से गांड की सफाई कर दी। फिर जब गांड थपथपाने से उसकी गांड  ढीली हो गयी तो जेली की एक पूरी ट्यूब की जेली गांड के अंदर डाल दी।
इस दौरान मेरा लंड भी बिल्कुल तन कर चूत के अंदर फडक रहा था. रानी मेरे सीने से चिपकी हुई मेरे कान को काट और चूस रही थी. रानी बोली राहुल आप क्या कर रहे है नीचे। मैं बोला सिस्टर इसको नीचे नहीं कहते. इस को कहते हैं गांड. तो बोली राहुल आप मेरी गांड को क्लीन क्यों किया। मैं फिर उसे रिक्वेस्ट किया की आगे से सेक्स का मतलब होता है चोदनावेसे ही इसका मतलब होता है चूतऔर ब्रेस्ट्स का मतलब होता है चूची।
फिर उसने नटखट चेहरा बना के बोला मुझे सब मालूम है आप मेरी गांड चोदना चाहते है. मैंने  पूछा वो कैसे?  तो बोली सिंपलचूत तो आप चोद चुके है. मैं बोला सिस्टर आप बहोत सेक्सी हो इसीलिए आपकी गांड भी चोदना चाहता हूँ. तो बोली,मेरे फ़्रेंड का पति भी उसकी गांड चोदता है पर मेरे पति को यह गंदा लगता है। मैने बोला यह बताओ मेरी रानी को गांड चुदवाने में कैसा लगता है वो हंस कर बोली वो तो राहुल के चोदने के बाद पता चलेगा। तभी मैने अपनी एक अंगुली रानी के गांड मे डाल दी और अंगुली से उसकी गांड चोदने लगा।
उसकी गांड मे अंगुली डाल कर मैने अंदर ही अंदर उसकी चूत में खड़े लंड को भी दबाने लगा. वो सिसकारी भरने लगी और ज़ोर से सीने से चिपक गयी. मैने कहा अब बताओ रानी कैसा लग रहा है डबल चुदाई. अच्छा ! बोल कर उसने मेरे गाल पर एक पप्पी दी। मैने बोला रानी जब तुम मेरे लंड को अपने गांड मे लोगी तो और अच्छा लगेगा मेरे लिए तुम डॉगी पोज़िशन में आ जाओगीवो बोली ठीक है और फिर टेबल पर डॉगी पोज़िशन मे आ गयी।
मैं भी उसके पीछे घुटनो पर टेबल पर उसकी गांड के पीछे आ गया. उसकी पीठ सहलाई. कमर सहलाई और कमर के नीचे से अपनी दो अंगुली उसकी चूत मे डाल कर अंगुली से उसकी चुदाई  करनी शुरू कर दी।
राहुल आप का लंड कहाँ हैमैने झट लंड उसके गांड के छेद पर रख कर कहा – रानी अब तुमको मेरा लंड अपने गांड मे लेना है. मूँह खोल कर लंबा साँस लो और धीरे धीरे गांड को पीछे धक्का देकर लंड को अंदर ले लो. ओक राहुल…  कह कर उसने धीरे से पूरा लंड अपनी गांड मे ले ली अब बिल्कुल बेशर्मी से अपने गांड को जैसे चाहो नचाओ – मैने कहा। फिर वो बिल्कुल मस्त होकर आँख बंद कर गांड हिलने लगी और मैं भी लंड को गांड मे डाले हुए धीरे धीरे स्ट्रोक पर स्ट्रोक लगाने लगा। 15मिनिट तक गांड चुदाई चलती रही और वो ऊऊओफफफफफफ्फ़ आआआ.. आहह एससस्स करती हुई सिसकियो के साथ में मैने चूत की अंगुली चुदाई जारी रखी।
उसके बाद मैं रानी को तेज तेज चोदने लगा वो मेरे हर धक्के मैं पूरा पूरा लंड अपनी गांड मैं झेल रही थी मैं बोला मैं झड़ने वाला हूँ वो बोली मेरी गांड मैं ही झड़ दो तभी मैं उसकी गांड में झर गया और वो मेरे हाथों में पानी छोड़ दी। उसकी चूत के पानी को हाथ मे लगा कर मैं उसके चेहरे पर लगा दिया और उसकी पेंटी को रानी की यादगार बना कर रख ली. फिर मैं जाकर सो गया. सबेरे उठा तो लंड फिर खड़ा था।

उठ कर बाहर गया तो उसके जाने का वक़्त हो गया था और वो डॉक्टर्स रूम के सामने से जा  रही थी. मैने उसे झट अंदर खीचाबेड पर पीठ के बल लिटाया. स्कर्ट उठाया और फट से अपने खड़े लंड को चूत में डाल कर पेलना शुरू कर दिया और 15 मिनिट में हम लोग खल्लास हो गये। उसके बाद से कई हफ्तो तक हम लोग एक दूसरे के साथ मस्ती करते रहे. अक्सर वो ड्यूटी वाले दिन पेंटी नहीं पहनती थी और मैं जब मौका मिलता उसके स्कर्ट उठाकर उसकी नंगी गांड को कभी सहला कर छोड़ देता. कभी चूत में अंगुली डाल देता. कभी गांड में वो अंगुली डाल लेती।
कभी टॉयलेट में हम रानी की चूत चोदते तो कभी गांड. कभी जब वो अकेले दवा देती मरीज को तो हम चैन खोल कर लंड को बाहर निकाल लेते और वो स्कर्ट उठा कर चूत मे लंड डाल लेती।  
बहुत मज़े किये मैने रानी के साथ. कभी वो मेरे घर आ जाती छुट्टी पर और हम लोग खूब चुदाई करते।
दोस्तों मुझे आशा हे आप को मेरी कहानी अच्छी लगी होगी. यह मेरे जीवन की सच्ची कहानी है जिसे मेने बहुत मेहनत से लिखकर आपके सामने पेश किया है….. मुझे आपके कमेन्ट का इन्तजार रहेगा।
धन्यवाद ।

कोचिंग टीचर को ग्राउंड में चोदा Teacher Ki Chudayi

कोचिंग टीचर को ग्राउंड में चोदा Teacher Ki Chudayi
हैल्लो दोस्तों.. मेरा नाम अनिल है। मेरी उम्र 24 साल है और में एक टीचर हूँ। वैसे मुझे सेक्स में बहुत गजब की दिलचस्पी है .. मुझे आंटी की चुदाई की कहानियाँ बहुत अच्छी लगती है और वो मेरा लंड खड़ा कर देती है और इसी कारण में कोई ना कोई रास्ता खोजता रहता हूँ कि कोई मिल जाए तो में उसकी जमकर चुदाई कर सकूँ और अधिकतर समय किस्मत से में सफल भी हो जाता हूँ। मुझे जवान कुंवारी लड़कियों का कोई शौक नहीं.. मुझे तो शादीशुदा और आंटीयां बहुत पसंद है और मुझे सिगरेट पीने का बहुत शौक है.. इसलिए में अपने घर वालों से छुपकर सिगरेट पीता हूँ और इसलिए में हमेशा अकेले में जाकर सिगरेट पीता हूँ.. किसी सुनसान जगह पर। दोस्तों यह मेरी पहली कहानी है.. इसमें किसी भी तरह की गलती हो तो प्लीज मुझे माफ करें.. वैसे मुझे उम्मीद है कि यह मेरी आज की कहानी आप सभी को बहुत पसंद आएगी.. क्योंकि यह कहानी नहीं, मेरी एक सच्ची चुदाई की घटना है।

एक दिन मेरे छुपकर सिगरेट पीने से ऐसा ही कुछ हुआ.. उस रात को 9 बजे में सिगरेट लेकर एक ग्राउंड में चला गया। वो एक कॉलेज का ग्राउंड था और रात में वहाँ पर कोई भी नहीं आता जाता और वहाँ पर अंधेरा भी बहुत रहता है तो में वहाँ पर ग्राउंड के पास की कॉलेज की पुरानी बिल्डिंग के पास जाकर बाहर खड़ा होकर सिगरेट पी रहा था और मैंने सिगरेट ख़त्म की और फिर जाने के लिये मुड़ा ही था कि तभी मुझे किसी के हंसने की आवाज़ सुनाई दी और मेरा दिमाग़ ठनका कि इस वक़्त यहाँ पर क्या हो रहा है.. शायद हो सकता है कि कुछ बाहर के लड़के जुआ खेल रहे होंगे लेकिन फिर किसी लड़की की भी हंसने की आवाज़ आई और मुझे समझते देर नहीं लगी कि यहाँ पर चुदाई का प्रोग्राम चल रहा है और में तुरंत दबे पैर उस तरफ बढ़ा तो मैंने वहाँ पर देखा कि दो लड़के मोबाईल की टॉर्च जलाकर एक लड़की के साथ थे और वो उस लड़की को नंगी कर चुके थे और वो एक दूसरे से बहस कर रहे थे कि लेटाकर कैसे होगा.. यहाँ पर बहुत कंकड़ है और यह बड़े घर की लड़की है बिस्तर पर लेटने वाली तो दूसरा बोला कि अरे तो क्या हुआ चुदवाते वक़्त कंकड़ बिस्तर से ज़्यादा मज़ा देगा और वैसे भी कौन सा यह पहली बार यहाँ पर चुद रही है।
फिर मैंने सोचा कि अगर में अभी बीच में गया तो गड़बड़ ना हो जाए या यह कोई हथियार लिए हुए तो में क्या करूंगा? और फिर में थोड़ी देर वहीं पर रुका रहा। फिर उन लड़को ने अपने अपने कपड़े उतार कर ज़मीन पर बिछाए और उस पर लड़की को लेटाया और उनमे से एक लड़का उसके ऊपर लेटकर चूमने, चाटने लगा और बूब्स को दबाने लगा तो दूसरा बोला कि साले यहाँ पर इतना रोमांस मत कर.. जल्दी से चोदना शुरू कर.. क्योंकि फिर इसको घर भी छोड़ना पड़ेगा और कोचिंग तो कब की ख़त्म हो गई है तो में समझ गया कि यह लड़के अपनी क्लास की किसी लड़की को फंसाकर कोचिंग से चोदने के लिए लाए है और मैंने सोचा कि मेरी आज की चुदाई का इंतज़ाम हो गया और वैसे में नई लड़कियों को नहीं चोदता.. क्योंकि उन्हे चुदाई का ज्यादा अनुभव नहीं होता और वो चुदने में बहुत नाटक भी करती है लेकिन जब मुझे बहुत दिनों से कोई चूत मिल ही नहीं रही थी तो भला में क्यों जाने देता.. फिर मैंने थोड़ा इंतजार किया और देखने लगा और उस लड़की की बातें सुनकर मुझे लग रहा था कि जैसे वो लड़की इस जगह पर इन लड़को के साथ कई बार चुदवा चुकी है और दूर से उनकी आवाज सुनकर लगता था कि वो लड़की उन लड़को से उम्र में बड़ी लग रही थी और उस लड़के ने जो उसके ऊपर लेटा हुआ था.. उसने चोदना शुरू कर दिया था और जबकी दूसरा खड़ा होकर अपना लंड हिला रहा था.. वो लड़की हाँ और ज़ोर से चोदो सालो और चोदो हाँ चोदो आह्ह्ह्ह उह्ह्ह तो दूसरा लड़का बोला कि हरामी जल्दी से चोद वरना मेरा निकल जाएगा.. उस लड़के ने जल्दी जल्दी चोदा और उठ गया और जब दूसरे ने अंदर लंड डाल दिया तो मैंने सोचा कि अब जाना सही है.. क्योंकि जो एक बार चोद चुका है वो तो थक गया होगा.. अगर लड़ाई की नौबत आई तो मुक़ाबला हो जाएगा। तो मैंने एकदम से दौड़कर उनके पास जाकर बोला क्यों यह क्या हो रहा है तो जो एक लड़का खड़ा था वो भाग गया और वो दूसरा लड़का और लड़की अपने आप को कपड़े से ढकने लगे और मैंने फिर से कहा कि यह यहाँ पर क्या हो रहा था और फिर वो दोनों कुछ नहीं बोले.. बस वो लड़का बोला कि मेडम कपड़े पहनकर भागो।
फिर मैंने कहा कि रूको मुझे कोई दिक्कत नहीं है और तुम लोग करो जो भी तुम्हे करना हो.. लेकिन मुझे भी एक बार हाथ धो लेने दो। तभी मेरी नज़र उस लड़की पर गई.. वो कोई 26-27 साल की लड़की थी और वो सलवार पहन चुकी थी तो मैंने उसका एक हाथ पकड़कर कहा क्यों कहाँ चली तो वो बोली कि छोड़ो मेरा हाथ.. मैंने कहा कि मेरे लंड में क्या काँटे लगे है? जो यह कह रही कि चलो.. अब मेरे भी नीचे आओ। तभी वो लड़का बोला कि मेडम मान जाओ प्लीज़.. तो मैंने पूछा कि यह कौन है तो वो लड़का बोला कि यह हमारी मेडम है और हमे कोचिंग पढ़ाती है और इतने में वो दूसरा लड़का भी आ गया तो मैंने कहा कि समझा इसे.. वरना में बताता हूँ और वैसे में उन लड़को से कदकाठी में बहुत मजबूत था तो मैंने कहा कि चलो अब जल्दी करो.. में बहुत देर से यह नाटक देख रहा हूँ और कोचिंग से यहाँ पर आकर तुम लोग यह सब करते हो.. क्यों तुम लोगों को देर हो रही है सालों.. तो वो लड़की बोली कि अच्छा ठीक है जल्दी से कर लो। फिर उन लड़को से मैंने कहा कि हरामियों भागो यहाँ से में मेडम को उनकी जगह पर छोड़ दूंगा.. वो मना करने लगे तो मैंने ज़ोर से कहा और उस लड़के ने अपने कपड़े लिए और वो दोनों वहाँ से भाग गए।
फिर उसके बाद मैंने मेडम को पकड़ा और मैंने जैसे ही उसको बाहों में भरकर उसकी गांड की तरफ हाथ ले गया तो मेरी ख़ुशी बढ़ गई.. वाह! उसकी गांड क्या चौड़ी थी। मैंने सलवार उतार दी और अंदर पेंटी तो थी नहीं.. क्योंकि उसने जल्दबाज़ी में नहीं पहनी थी और तुरंत पीछे से जाकर उसके कूल्हों को खोलकर गांड को किस किया और बोला कि मेडम तू तो मस्त गांड वाली है.. साली क्या एक से मन नहीं भरता तो दो दो लेती है। वो चुप खड़ी रही और फिर मैंने उसकी चूत में उंगलियाँ डाली तो वो आह्ह्ह्हह उह्ह्ह्ह आईईईईइ करने लगी और सिसकियाँ लेने लगी। मैंने उसको बैठाया और कहा कि मेरी थोड़ी मदद करो.. दोनों मज़ा करते है। फिर वो बोली कि वो तो साले भाग गए और तुम तो चुदने ही आई थी। फिर मैंने उसके बूब्स को पूरी ताक़त से दबाया तो वो बोली कि थोड़ा आराम से करो ना दर्द हो रहा है.. मैंने कहा कि ठीक है और में बूब्स को सहलाने लगा और मैंने तब तक अपना लंड बाहर निकाल लिया था और मैंने उसे कहा कि इसे चूसो.. वो बिना कुछ कहे चूसने लगी लेकिन वो पक्की खिलाड़ी लग रही थी.. मैंने उसको पूछा कि क्यों कब से चुदवा रही हो तो उसने लंड को बाहर निकाल कर कहा कि बहुत दिन हो गए.. यह दोनों ट्यूशन पड़ने आते है और मेरे सेंटर पर मैंने एक को फसाया लेकिन उसके साथ मज़ा नहीं आता था और एक दिन यह अपने साथ इसको पकड़कर लाया और में तब जोश में थी और फिर मैंने दोनों से चुदाई करवानी शुरू की और में तब से दोनों के साथ चुदाई करती हूँ तो मैंने कहा कि बढ़िया करती हो और मैंने कहा कि यह मेरा लंड कैसा है तो वो बोली कि बहुत बड़ा है और उन दोनों के लंड तो इससे बहुत छोटे है तो मैंने कहा कि हाँ छोटे बच्चो से चुदवाओगी तो छोटे लंड ही मिलेगे। मैंने उसको हटाया और उसको मस्ती से चोदने के लिए उसके नंगे जिस्म को चूमने लगा.. वो बोली जल्दी करो ना काफ़ी देर हो गई तो मैंने कहा कि इतनी देर बकवास की.. पहले ही मान जाती तो अब तक घर में होती और मैंने उसको घुटनो के बल झुकाया और उसके कूल्हों में थपकी देने लगा और सहलाने लगा.. फिर लंड को थूक से लपेटा और उसकी गांड में लंड लगा दिया तो वो बोली कि आराम से करना तुम्हारा लंड बहुत बड़ा है तो मैंने कहा कि उन कमीनों ने तेरी गांड भी मारी तो तुम चुप थी.. तो उसने कुछ जवाब नहीं दिया और में बस लंड को घुसाता गया और वो ज़ोर से चिल्लाई.. आह्ह्ह्हह प्लीज थोड़ा धीरे करो। तो मैंने कहा कि वाह! बहुत टाईट है साली यह और लो.. मैंने और अंदर डाला तो वो आगे की तरफ होने लगी और मैंने उसके कंधों को पकड़कर पीछे खींचा और एक धक्का मारा.. मेरा लंड फिसलता हुआ अंदर चला गया और वो अह्ह्ह्ह नहीं आहहआ उह्ह्ह नहीं में मर जाउंगी।
फिर मैंने कहा कि तुम नहीं मरोगी.. तुम्हारी गांड मरेगी और मैंने लंड को थोड़ा बाहर खींचकर फिर से धक्का मारा तो वो फिर से चीखी.. अह्ह्ह माँ बचाओ औऊउ और वो रोने सी लगी.. लेकिन मुझे मज़ा आ रहा था और मैंने लंड को बाहर निकाल लिया और वो जब थोड़ी ठीक हुई तो मैंने फिर से लंड को अंदर डाल दिया और इस बार में रुका नहीं और पूरा लंड उसकी गांड में डालकर चोदने लगा.. वो आअहहअहह अहहा सईईईई आई माँ मर गई और में उसकी गांड के मज़े ले रहा था और उसकी कमर को पकड़ लिया और चोदने लगा.. छप छप की आवाज़ आ रही थी और में थोड़ा आगे उसकी पीठ पर आया तो उसके लटकते बूब्स को थामकर ज़ोर ज़ोर से धक्के देकर चोदने लगा और मैंने कहा कि मुझे तुम्हारी गांड मारने में बहुत मज़ा आ रहा है तो वो बोली कि लेकिन मेरी तो जान निकल रही है और मैंने करीब 7-8 मिनट तक उसकी गांड को रगड़कर चोदा और फिर लंड को बाहर निकालकर उसकी चूत में डाला तो वो बहुत आसानी से फिसलता हुआ अंदर चला गया और मैंने भी पहली ही बार में पूरा ही लंड अंदर घुसा दिया और उसकी चुदाई करने लगा.. वो अह्ह्ह्हह अहहहहहा उह्ह्ह्ह माँ मरी करने लगी.. तो मैंने उससे पूछा कि क्यों मज़ा आ रहा है या नहीं तो वो बोली कि हाँ बड़ा मज़ा आ रहा है।
तो वो चीख पड़ी और मैंने फिर से जल्दी जल्दी चोदा.. वो आह्ह्ह उंह्ह्ह्ह और करती रही और में उसे चोदता रहा लेकिन अब भी मेरा जोश ठंडा नहीं हो रहा था और फिर पता नहीं क्या हुआ कि में चोदते चोदते अपने दोनों पैरों में दर्द महसूस कर रहा था तो मैंने उससे कहा कि क्या तुम मुहं में लेकर चूसोगी तो वो बोली कि नहीं, थोड़ा और चोदो.. जल्दी करो। फिर में यह बात सुनकर और जल्दी तेज़ी से चोदने लगा.. उसका काम हो गया और वो ढीली पड़ने लगी.. लेकिन में तो जोश में था तो में दर्द सह गया और चुदाई में लगा रहा। मुझसे अब दर्द बर्दाश्त नहीं हो रहा तो मैंने और लंबे लंबे धक्के दिए और वो आह्ह्ह अहह सिसकियाँ लेने लगी तो मैंने लंड को बाहर निकाल लिया और उसके सामने खड़ा हो गया और कहा कि चूसो जल्दी वरना फिर से तुम्हारी गांड में डालना पड़ेगा.. तो वो लंड मुहं में लेकर चूसने लगी और कुछ ही पलों में मुझे अहसास हो गया कि मेरा माल आने वाला है और मेरे मुहं से भी सईईइईई आह्ह्ह निकलने लगा और मेरा वीर्य निकलने वाला था तो मैंने उसका मुहं पकड़ा और ज़ोर से अपना लंड उसके मुहं में अंदर तक डालकर पूरा वीर्य मुहं में ही गिरा दिया और मैंने भी तब तक लंड नहीं निकाला.. जब तक एक एक बूँद उसके गले से ना उतर गया। फिर वो खांसने लगी और उल्टी सी करने लगी.. मैंने उसकी पीठ सहलाई तो वो थोड़ी ठीक हुई उसने अपने कपड़े पहने और मैंने भी अपने कपड़े ठीक किए और वो जाने लगी तो मैंने उसका हाथ पकड़ लिया तो वो बोली कि अब क्या है.. प्लीज़ मुझे जाने दो मेरी हालत बहुत खराब है और फिर मैंने उसकी मोटी गांड को पकड़कर अपनी और खींचा और कहा कि नाम क्या है.. बताती तो जाओ तो वो बोली कि सपना.. मैंने कहा कि अब कब मिलोगी तो वो बोली कि हर शनिवार को में एक्सट्रा क्लास लगाने के बहाने से एक घंटे के लिए यहाँ पर आती हूँ.. तुम भी आ जाना तो मैंने कहा कि और अगर ना आई तो वो बोली कि तुम अपना मोबाईल नंबर दो और मैंने उसको अपना नंबर दे दिया और उसका ले लिया और में उसके ही साथ सड़क पर चलते चलते बातें करते करते आ गया.. वो पास के ही मोहल्ले में कोचिंग चलाती थी। फिर मैंने एक ऑटो रुकवाया और उसमें हम दोनों बैठकर आए.. मैंने उसको घर के पास उतारकर खुद वही ग्राउंड तक वापस गया। फिर वहीं पर रोड के किनारे खड़ी अपनी बाईक को लेकर घर आया.. रात को एक बजे मैंने उसको कॉल लगाकर सॉरी बोला.. फिर हम लोगो की बातें होने लगी और उसके बाद से हम लोग उस जगह की तरफ ना जाकर उसकी कोचिंग के कमरे में ही मिलने लगे और में उसको मस्त चोदता हूँ और वो भी अब बहुत खुलकर चुदवाती है ।।

पति के दोस्त के साथ Hindi Font Antarvasna Ki Kahani

पति के दोस्त के साथ Hindi Font Antarvasna Ki Kahani
मेरा नाम फाल्गुनी है. मैं ३४ साल की शादीशुदा औरत हूँ. मेरे पति बिज़नस के सिलसिले में अक्सर बाहर रहते हैं.

कुछ दिन पहले की बात है मेरे पति दो दिन के लिए घर से बाहर गए हुए थे और मैं घर में अकेली टीवी पर ब्लू फ़िल्म देख रही थी. ब्लू फ़िल्म देख देख कर मेरी चूत में से पानी आने लगा था. मेरा मन कर रहा था कि कोई मज़ेदार लंड मिल जाए तो जी भर के चुदाई करवाऊं.


वो कहते हैं ना कि सच्चे दिल से मांगो तो सब कुछ मिलता है. घर की कॉल बेल बजी तो मुझे लगा कि भगवान् ने मेरी सुन ली. मैंने दरवाजा खोला तो देखा कि मेरे पति के ख़ास दोस्तों वर्मा और गुप्ता बाहर खड़े थे.

अचानक उनको देख कर मैं चौंक गई. मैंने उनसे कहा कि 'ये' तो बाहर गए हैं दो दिन बाद आयेंगे. यह बात सुन कर वो दोनों भी उदास हो गए और बाहर से ही वापस जाने लगे. मैंने सोचा कि अगर इन लोगों को अन्दर नहीं बुलाऊंगी तो ये लोग बुरा मान जायेंगे. मैंने उनसे कहा कि आप लोग अन्दर आ जाईये. ये सुन कर मेरे पति के खास दोस्त वर्मा ने कहा कि नहीं भाभी हम लोग चलते हैं. हम लोग तो ये सोच कर आए थे कि पाटिल घर में होगा तो बैठ कर दो दो पैग लगायेंगे.

मैं आप लोगों को बता दूँ कि पाटिल मेरे पति का नाम है और ये सारे दोस्त हमारे घर में अक्सर दारू पार्टी करते हैं. क्योंकि इन लोगों के घरों मैं दारू पीना मना है.

मेने एक अच्छे मेजबान का फ़र्ज़ निभाते हुए कहा कि कोई बात नहीं आप लोग अन्दर बैठ कर पैग लगा लीजिये मुझे कोई परेशानी नहीं है. मेरी बात सुन कर दोनों खुश होते हुए बोले "क्या सचमुच हम लोग अन्दर बैठ कर पी सकते हैं."

मैंने कहा "क्यों नहीं आप का ही घर है आप लोग अन्दर आ जाईए, मैं आप लोगों के लिए पानी और सोडा का इंतजाम कर देती हूँ."

ये सुन कर गुप्ता ने कहा कि एक शर्त है "आपको भी हमारा साथ देना होगा !"

मैं पहले भी कई बार अपने पति के सामने इन लोगों के साथ दारू पी चुकी थी इसलिए इन लोगों को पता था कि मैं भी दारू पीती हूँ. मैंने तुंरत हाँ भर दी और वो दोनों अन्दर आ गए. अन्दर आते ही उनकी निगाह टीवी पर चल रही ब्लू फ़िल्म पर गई जिसे मैं बंद करना भूल गई थी. मैंने जल्दी से शरमा कर टीवी बंद कर दिया. लेकिन वो दोनों ये सब देख कर मुस्करा रहे थे. मैं किचेन मैं पानी और सोडा लेने चली गई.

किचिन में जाकर मैंने सोचा कि मैं तो एक लंड के इंतज़ार मैं थी और भगवान् ने मुझे दो दो लंड गिफ्ट में भेज दिए. क्यों ना इस मौके का फायदा उठाया जाए और ये सोच कर मैंने सोडा और पानी की बोतल फ्रीज़ में से निकली और तीन गिलास साथ में ले कर वापस कमरे में आ गई.. वर्मा ने अपनी जेब से व्हिस्की कि बोतल निकाल कर मुझे दी और मैं तीन पैग बनाने लगी. वो लोग साथ मैं खाने के लिए स्नेक्स भी लाये थे. हम लोग बातें करते हुए पैग लगा रहे थे. कुछ ही देर में हम सभी पर थोड़ा थोड़ा सुरूर छाने लगा.

उन दोनों ने आंखों ही आंखों में इशारा किया और फ़िर गुप्ता ने मुझसे पूछा "भाभी आप टीवी पर ब्लू फ़िल्म देख रहीं थीं तो फिर आपने टीवी बंद क्यों कर दिया. टीवी चलाओ ना हम लोग भी फ़िल्म देखना चाहते हैं. "

अब तक मुझ पर भी शराब नशा चढ़ने लगा था. मैंने सोचा कि यही मौका है चुदाई का माहौल बनाने का. ये सोच कर मैं उठी और टीवी चालू करने लगी. टीवी चालू करते हुए मेरी साड़ी का पल्लू नीचे गिर गया जिसे मैंने जानबूझ कर ठीक नहीं किया. मेरे कसे हुए ब्लाउज में से बड़े बड़े बूब्स आधे बाहर निकल आए थे. मैने तिरछी नज़र से देखा कि वो दोनों मेरे बूब्स पर निगाह गड़ाये हुए मुस्करा रहे हैं. मैने टीवी पर ब्लू फ़िल्म चालू कर दी और उसी सोफे पर जा कर बैठ गई जिस पर वो दोनों बैठे हुए थे. अब मैं उन दोनों के बीच में बैठी थी. टीवी पर चल रही फ़िल्म मैं भी एक औरत को दो आदमी चोद रहे थे. ये सीन देख कर हम तीनो ही गरम हो गए. मैने जान बूझ कर अपना पल्लू नीचे सरका दिया और सोफे पर आधी लेट गई. मेरे बगल में बैठे वर्मा ने पहल की और धीरे से मेरे बूब्स के ऊपर हाथ फिराने लगा. मैने कोई विरोध नहीं किया और आँखे बंद कर लीं. थोडी ही देर में उन दोनों ने मिल कर मेरे ब्लाउज के हुक खोल दिए और मेरे बड़े बड़े फलों का रस चूसने लगे. अब हम लोग खुल चुके थे इसलिए मैने भी हाथ बढ़ा कर पैंट के ऊपर से ही उनके लंड को टटोलना शुरू कर दिया था. वर्मा मेरे होटों को अपने मुंह में ले कर चूसने लगा और गुप्ता मेरी एक चूची को मुंह में भर कर पीने लगा.

अभी हमारा खेल चालू हुआ ही था कि अचानक घर कि कॉल बेल फ़िर से बज गई. हम तीनो चौंक गए. मैने कहा कि अब कौन हो सकता है.

तभी गुप्ता ने कहा " अरे यार में समझ गया, शर्मा और ठाकर होंगे हमने उन लोगों को भी बुलाया था."

मैंने जल्दी से टीवी बंद कर दिया और अपने कपडे ठीक करने लगी तो वर्मा ने मेरे हाथ पकड़ कर मुझे रोक लिया और कहा " रहने दो भाभी ये लोग भी अपने ही दोस्त हैं इनसे क्या शरमाना"

जब तक मैं कुछ कहती तब तक गुप्ता ने दरवाजा खोल दिया था और मेरे सामने तीन नए लोग खड़े थे. जिनका नाम शर्मा, ठाकर और नारंग था.

अब घर में पॉँच मर्द थे और मैं अकेली औरत. शराब का दौर चल रहा था सब लोग नशे में थे. मेरे मन में लड्डू फूट रहे थे. मेरी बरसों की इच्छा आज पूरी होने जा रही थी.. मेरी इच्छा थी की मैं एक साथ पॉँच मर्दों के साथ चुदाई का खेल खेलूं और आज ये सपना सच होने वाला था. किसी ने मेरे बदन से ब्लाऊज़ उतर दिया था. वर्मा और गुप्ता मेरी एक एक चूची को मुंह में लेकर चूस रहे थे. ठाकर जो बाद में आया था उसने अपना लंड निकाल कर मेरे मुंह में डाल दिया और नारंग और शर्मा मेरे नीचे के कपडे हटाने की कोशिश कर रहे थे. मैंने उन सब को रोक कर कहा कि चलो अन्दर बेड रूम मैं चलते हैं. ये सुन कर उन पांचों ने मुझे गोदी में उठा लिया और ले जा कर बेड पर डाल दिया. अब मेरे बदन पर कोई कपडा नहीं था.

ठाकर जिसका लंड काला और ज्यादा ही लंबा था उसने मेरे मुंह में अपना पूरा लंड डाल दिया. मैं उसके लंड को लेमनचूस की तरह चूसने लगी.

नारंग और वर्मा ने मेरे बोबे मसलने और चूसने चालू कर दिए.

वर्मा ने मेरी दायीं तरफ़ आ कर मेरे हाथ में अपना मोटा लंड पकड़ा दिया. जिसे मैंने आगे पीछे करना चालू कर दिया.

गुप्ता पलंग के नीचे बैठ कर मेरी चूत को चाटने लगा. मुझे जन्नत का मज़ा मिल रहा था.

मेरे चारों तरफ़ अलग अलग तरह के लंड थे.. मैं किसी भी लंड को हाथ में लेकर खेलने लगती. मेरे मुंह में भी अलग अलग साइज़ के लंड डाले जा रहे थे और मैं सभी लंड बड़े प्यार से चाट और चूस रही थी. तभी उनमे में से किसी ने मेरी चूत में अपनी जीभ डाल दी. खुशी के मारे मेरे मुंह से चीख निकल गई.

मैं जोर से चिल्लाई "वैरी गुड..... ऐसे ही चूसो मादरचोदों चाटो मेरी चूत को.....". मैं पूरे नशे में थी और उछाल उछाल कर चूत चुसवा रही थी.

ठाकर ने मेरे मुंह में लंड डालकर मुंह की ही चुदाई शुरू कर दी. दो लोग मेरे हाथ में लंड पकड़ा कर मुठ मरवा रहे थे. एक जन अभी खाली था इसलिए मैंने कहा,"मेरे यारोंरोंरोंरोंरोंरों..... अभी तो एक छेद बाकी है उसमे भी तो कुछ डालो"

मेरी बात सुनते ही वर्मा ने सब को रोक कर कहा कि रुको पहले आसन लगा लेते हैं. सब ने अपनी अपनी पोसिशन ले ली.

नीचे वर्मा सीधा लेट गया और मुझसे कहा "आओ भाभीजान मेरे ऊपर आओ मैं तुम्हारी गांड में अपना लंड डाल कर मज़ा देता हूँ."

मैं तुंरत अपनी गांड चौड़ी करके उसके लंड पर बैठ गई. वर्मा का लंड मेरे पति के लंड से ज्यादा मोटा नहीं था इसलिए आराम से मेरी गांड में चला गया.

दोस्तों मैं आपको बता दूँ कि मेरे पति भी काफी माहिर चुद्दकड़ हैं और मुझे बहुत मज़ेदार ढंग से चोदते हैं लेकिन मेरी प्यास उतनी ही बढ़ जाती है जितना मैं चुदवाती हूँ. यही कारण है कि आज मैं अपने पति के पाँच दोस्तों से एक साथ चुदवाने को तैयार हूँ.

हाँ तो दोस्तों वर्मा का लंड मैंने अपनी गांड में डाल लिया और सीधी होकर अपनी चूत ऊपर की तरफ करते हुए बोली " चलो कौन मेरी चूत का बाजा बजाना चाहता है वो आगे आ जाए."

नारंग जिसका लंड थोडी देर मैंने मुंह में डाल कर चूसा था वो मेरे ऊपर आ गया और निशाना लगाते हुए बोला "मेरी जान सबसे पहले मेरा स्वाद चखो."

गुप्ता भी मेरे सर कि तरफ़ आते हुए बोला "मेरी प्यारी भाभी मुझे अपने मुंह में डालने दो प्लीज़."

अब शर्मा और ठाकर बच गए थे. मैंने उनसे कहा कि आओ मेरे यारो, अभी तो मेरे दोनों हाथ खाली हैं.

इस तरह पोसिशन लेने के बाद घमासान चुदाई चालू हो गई. मेरी गांड और चूत में एक साथ लंड अन्दर बाहर हो रहे थे. मुझे जम कर मज़ा आ रहा था. मैं बीच बीच में अपने मुंह से लंड निकाल कर सिस्कारियां लेने लगी "आआआ.... और जोर सेसेसेसे..... चोद....ओऊऊऊऊऊ.....फाड़ डालोऊऊऊओ... मेरी चूत.... बहनचोदों एक भी छेद मत छोड़ना... सब जगह डाल दोऊऊऊओ.... फाड़ डाल मेरी गांड.... वर्मा....के बच्चे..... और जोर से नारंग...अन्दर तक डाल अपना हथियार...यार...आर आर अअअ आ आ आ....मज़ा आ गया."

काफी देर तक पोसिशन बदल बदल कर ये चुदाई का कार्यक्रम चलता रहा. कभी किसी ने मेरे मुंह में लंड डाला कभी किसी ने. अलग अलग लंडों का स्वाद मेरे मुंह में आता रहा. करीब एक घंटे तक चले इस खेल में मैं पॉँच बार झड़ चुकी थी. अब मेरी चुदाई की आग शांत होने लगी थी.

मैंने उन सबसे कहा "मेरे यारों...एक बात ध्यान रखना कोई भी अपना पानी इधर उधर नहीं डालेगा....सबको मेरे मुंह में ही अपना पानी डालना है... मैं बहुत प्यासी हूँ....मेरी प्यास तुम्हारे पानी से ही बुझेगी. कम से कम पचास ग्राम पानी पिलाना मुझे."

वो सब लोग भी अब अपनी मंजिल पर पहुँच चुके थे.

गुप्ता ने कहा "चल भोसड़ी की अब नीचे लेट जा और पानी पी... आज नहला देंगे तुझे मेरी जान."

मैं पलंग पर सीधी लेट गई और उन पांचों ने मेरे मुंह के चारों तरफ़ घेरा डाल लिया. मैंने एक एक करके सबके लंड को मुंह में ले कर पानी निगलना चालू कर दिया. मेरा पूरा मुंह और गला लिसलिसे वीर्य से भर गया. सबका मिलाजुला स्वाद मुझे कॉकटेल का मज़ा दे रहा था और मैं स्वाद ले ले कर उन सबका पानी पीती चली गई और सबके लंडों को चाट चाट कर साफ़ कर दिया. मेरी बरसों की तम्न्ना आज पूरी हो गई थी

Ads